34 साल बाद गर्मी में नहीं, बसंत ऋतु में पड़ेगा रमज़ान

अपराह्न वार्ता न्यूज डेस्क(APRAHAN VARTA NEWS DESK)। मुस्लिम धर्मावलंबियों के लिए रमज़ान का महीना सबसे पवित्र महीना होता है. यह इस्लामिक कैलेंडर का नौवां महीना है. रमज़ान के महीने में सूर्योदय से सूर्यास्त तक रोज़ा रखा जाता है. रमजान के पाक महीने में रोजादार अल्लाह की इबादत करना, नमाज अता और ज़कात जैसे धार्मिक कार्य में शामिल होते हैं.

2024 में कब है रमजान आइये जाने

पाकिस्तानी समाचार मीडिया के मुताबिक 11 मार्च 2024 से रमजान का महीना शुरू होगा. पाकिस्तान के एक दिन बाद भारत में रमज़ान शुरू होता है. इसके मुताबिक भारत में 12 मार्च 2024 से रमजान का महीना शुरू हो जाएगा.

 

34 साल बाद सर्दी में होगा रमजान

फरवरी और मार्च में हल्की सर्दियां होती हैं. लगभग इसी समय वसंत ऋतु का आरंभ होता है. इस दौरान मौसम सुहावना होता है. पिछले कुछ वर्षों में हमने रमज़ान को चिलचिलाती गर्मी में पड़ रहा था. 34 साल बाद मार्च में रमजान शुरू हो रहा है. इससे पहले 1991 और 1992 में रमज़ान का महीना मार्च के मध्य में शुरू हुआ था.

 

रमज़ान के महीने में रखा जाता है रोज़ा

मुस्लिम धर्मावलंबी रमज़ान के महीने में रोजा रखते हैं, वे सुबह सूर्योदय से पहले एक समय का भोजन करते हैं, जिसे सेहरी कहा जाता है. फिर पूरे दिन रोजा रखने के बाद सूर्यास्त के बाद जो खाना खाते हैं उसे इफ्तार कहते हैं. रमज़ान के महीने में रोज़ा रखने वाले मुसलमान सूर्योदय से सूर्यास्त तक पानी की एक बूंद भी नहीं लेते. ईद-उल-फितर रमज़ान के अंत में मनाया जाता है. मुस्लिम कैलेंडर का शव्वाल महीना ईद-उल-फितर से शुरू होता है.

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *