बिहार के बाद अब महाराष्ट्र में भी टूटने के कगार पर INDIA Alliance

 PATNA (पटना)। 26 जनवरी दोपहर से चल रही बिहार (BIHAR) की राजनीति में उथल-पुथल के बाद बिहार में महागठबंधन की सरकार गिरने के कगार पर है. आज संभावना है कि नीतिश कुमार गठबंधन सरकार से इस्तीफा देकर बीजेपी के साथ सरकार बनाएंगे.

 

नीतीश कुमार करीब दो साल पहले भाजपा से नाता तोड़कर महागठबंधन में शामिल हो गए थे. कांग्रेस पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार का बार-बार ”अपमान” करने का आरोप लगाया जा रहा है. विपक्षी गठबंधन ‘इंडियन नेशनल डेवलपमेंटल इंक्लूसिव अलायंस’ (इंडिया) कई राज्यों में टूटने के कगार पर है.

पंजाब, पश्चिम बंगाल, महाराष्ट्र

पंजाब, पश्चिम बंगाल और बिहार राज्यों में दलों का गठबंधन लगभग खत्म हो चुका है. नीतीश कुमार के बिहार में अपनी पार्टी जदयू को ‘महागठबंधन’ से बाहर निकालकर पाला बदलने की खबरों के बीच भाजपा सांसद राधा मोहन दास अग्रवाल ने कहा कि महाराष्ट्र में भी भारतीय गठबंधन टूट जाएगा. गठबंधन सिर्फ यह दिखाने के लिए कांग्रेस का रणनीतिक कदम था कि सभी पार्टी पूरी तरह से भाजपा के खिलाफ खड़ी हैं और राहुल गांधी ही एकमात्र विपक्ष हैं.

AAP भी INDIA गठबंधन के साथ नहीं

राधा मोहन दास अग्रवाल ने कहा, “पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान कहते रहे कि वे (आप) अपने दम पर पंजाब में सीटें जीतेंगे. हरियाणा में, दोनों के बीच कोई समझौता नहीं हो सका. यह होना ही था. आज देश में जो स्थिति है, उसमें कौन है जो बीजेपी और पीएम मोदी को चुनौती दें? सच तो यह है कि जो पार्टियां इंडीया गठबंधन में बची हैं, उन्हें यह एहसास हो गया है कि बीजेपी के पक्ष में जो लहर बनी है, अगर वे बीजेपी के साथ नहीं खड़े हुए तो खत्म हो जाएंगे.

पश्चिम बंगाल और पंजाब

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और उनके पंजाब समकक्ष भगवंत मान ने भी घोषणा की थी कि सत्तारूढ़ टीएमसी और आप आगामी लोकसभा चुनावों में दोनों राज्यों में क्रमशः कांग्रेस के साथ गठबंधन नहीं करेंगे.

 

बिहार में कितनी सीटें किसके पाले में

243 की बिहार विधानसभा में राजद के 79 विधायक हैं; इसके बाद भाजपा के 78; जद (यू) की 45′, कांग्रेस की 19, सीपीआई (एम-एल) की 12, सीपीआई (एम) और सीपीआई की दो-दो, हिंदुस्तानी अवाम मोर्चा (सेक्युलर) की चार सीटें, और एआईएमआईएम की एक सीट, साथ ही एक निर्दलीय विधायक. अगर नीतीश पाला बदलते हैं तो यह चौथी बार होगा जब वह पाला बदलेंगे.

गठबंधन में संकट के हालात में कांग्रेस

कांग्रेस पार्टी इंडिया गठबंधन में संकट का सामना कर रही है. केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने इसपर कटाक्ष करते हुए कहा, देखें आगे क्या होता है. ठाकुर ने कहा INDIA गठबंधन का मतलब बिखराव था क्योंकि कांग्रेस अपने सहयोगियों के साथ न्याय करने में विफल रही. जो लोग अपने गठबंधन दलों के साथ न्याय नहीं कर सके, जिनकी ‘मोहब्बत की दुकान’ में अधिक नफरत दिखी, उन्हें बिखरना पड़ा, जो सम्मान और सम्मान नहीं दे सके, जो तय नहीं कर सके कि वे कैसे न्याय देंगे. देखें आगे क्या होता है.

रिपोर्ट : एजेंसी

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *