विडम्बना : पैसों के अभाव में गांव नहीं आ सका मृतक प्रवासी मजदूर का शव

◆वीडियो कॉलिंग से परिवार वालों ने किया अंतिम दर्शन, मुंबई में ही कर दिया गया अंतिम संस्कार
मृतक नीलकंठ का फाइल फ़ोटो

HAZARIBAGH (हजारीबाग)। रोजी रोटी कमाने झारखण्ड से मुंबई गये एक प्रवासी मजदूर की मुम्बई में ही मौत हो गयी। मौत की खबर परिवार वालों को मिली। लेकिन घर की आर्थिक स्थिति वैसी नहीं थी कि मृतक का शव मुम्बई से गांव लाया जा सके। पैसों के अभाव के कारण परिवार वाले मनमशोस कर रह गये। अपने एक परिवारिक सदस्य की मौत पर नजदीक से उसका अंतिम दर्शन भी नहीं कर सके। मृतक प्रवासी मजदूर का अंतिम संस्कार मुम्बई में ही कर दिया गया। पैसे के अभाव बेबस परिजन इस दौरान वीडियो कॉलिंग के जरिये मृतक मजदूर का अंतिम दर्शन किया।

 

यह मन को झकझोर देने वाली हृदय विदारक घटना झारखंड के हजारीबाग जिले के बिष्णुगढ प्रखंड की गोविंदपुर पंचायत की है। बिष्णुगढ थाना क्षेत्र के गोविंदपुर निवासी स्वर्गीय अंतु पंडित का 22 वर्षीय पुत्र नीलकंठ बीते 30 अक्‍टूबर को मुंबई काम करने गया था। जहां काम के दौरान सीढ़ी से गिरने से बीते 1 नवंबर को वह गंभीर रूप से घायल हो गया था।

 

सहकर्मियों ने उसे इलाज के लिए मुंबई के साइन अस्पताल में भर्ती कराया। सीढ़ी से गिरने से नीलकंठ के सिर में गम्भीर चोटें आई थी। जिससे वह कोमा में चला गया था। वहीं इलाज के दौरान सोमवार रात उसकी मौत हो गई। पैसे के अभाव में परिजन चाहकर भी नीलकंठ का शव गांव नहीं ला सके और न ही परिवार का कोई सदस्य ही उसका अंतिम संस्कार करने ही मुंबई जा सका।

 

परिजनों के मुताबिक मृतक नीलकंठ पंडित का मंगलवार को मुंबई में ही अंतिम संस्कार कर दिया गया। इस दौरान मोबाइल फोन पर वीडियो कॉलिंग कर परिवार वालों को मृतक नीलकंठ का अंतिम दर्शन कराया गया। वहीं इस दौरान घर की महिलाओं की चीख-पुकार से पूरे गांव में मातमी सन्नाटा पसरा रहा।

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *