8 करोड़ की लागत से बने 49 कमरों वाला केन्द्रीय विद्यालय भवन का केंद्रीय मंत्री ने की उद्घाटन

◆ कहा, विद्यालय में और शिक्षकों की बहाली के दिशा में किया जायेगा प्रयास

 

 

 

GIRIDIH (गिरिडीह)। 8 करोड़ की लागत से बने 49 कमरों वाला केन्द्रीय विद्यालय भवन का मंगलवार को केन्द्रीय शिक्षा राज्य मंत्री सह कोडरमा सांसद अन्नपूर्णा देवी, जमुआ विधायक केदार हाजरा एवं गांडेय विधायक सरफराज अहमद ने संयुक्त रूप से फीता काटकर उद्घाटन किया।

 

 

गिरिडीह जमुआ मुख्य पथ पर जिला मुख्यालय से करीब 18 किमी दूर सदर प्रखंड के रानीखावा में संचालित गिरिडीह जिले के यह एकलौता केंद्रीय विद्यालय 14 शिक्षकों के साथ सीबीएसई बोर्ड पैटर्न पर आधारित है। वहीं नव निर्मित विद्यालय भवन के उद्घाटन के अवसर पर केन्द्रीय मंत्री ने स्कूल से मुख्य सड़क तक के पहुंच पथ का भी विधिवत् शिलान्यास किया।

 

 

विद्यालय भवन के उद्घाटन के अवसर पर आयोजित कार्यक्रम को संबोधित करते हुए केंद्रीय मंत्री अन्नपूर्णा देवी ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ग्रामीण क्षेत्रों के बच्चो को बेहतर शिक्षा उपलब्ध कराने की दिशा में प्रयासरत है। केंद्रीय विद्यालय इस दिशा में मील का पत्थर साबित हो रहा है। कहा कि देश के शिक्षा व्यवस्था को सुदृढ करना और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दिलाना केंद्र सरकार की पहली प्राथमिकता है। मौके पर केंद्रीय मंत्री ने गिरिडीह जिले के इस इकलौते केंद्रीय विद्यालय में मात्र 14 टीचर के होने पर अफसोस जताया। कहा कि इस विद्यालय में और शिक्षकों की तैनाती के लिये उपायुक्त से बात कर इस कमी को भी पूरा करने की दिशा में प्रयास किया जायेगा।

 

 

कार्यक्रम को जमुआ विधायक केदार हाजरा, गांडेय विधायक सरफराज अहमद ने भी संबोधित किया। विद्यालय भवन के उद्घाटन समारोह के दौरान विद्यालय में अध्ययनरत बच्चों द्वारा रंगारंग सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। जिसका उपस्थित लोगों ने भरपूर लुत्फ उठाया। बच्चों की कला कौशलता को देख समारोह में उपस्थित काफी मंत्रमुग्ध थे। विद्यालय के मल्टी पर्पस भवन में विद्यालय की छात्राओं ने सांस्कृतिक कार्यक्रम शुरुवात गणेश वंदना कर की।

 

कार्यक्रम में भाजपा जिलाध्यक्ष महादेव दुबे, जिप अध्यक्ष मुनिया देवी, सांसद प्रतिनिधि दिनेश यादव, भाजपा महिला मोर्चा नेत्री उषा कुमारी, रंजन सिन्हा, शोभा यादव, सब्बन खान,स्कूल के प्रिंसिपल जानकी साहू समेत स्कूल के शिक्षक शिक्षिकाएं स्थानीय जनप्रतिनिधि आदि मौजूद थे।

 

 

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *